×
Videos Agriculture Health Business Education Positive Breaking Sports Ansuni Gatha Advertise with Us Catch The Rainnew More
HOME >> AGRICULTURE

AGRICULTURE

Ethanol Production से किसानों को होगा लाभ, जानें हरियाणा हरियाणा सरकार की उस पहल को जिससे किसान होंगे आर्थिक रूप से सशक्त!

by Rishita Diwan

Date & Time: Nov 13, 2022 6:00 PM

Read Time: 2 minute



Ethanol Plant in Sugar Mill: देश में डीजल-पैट्रोल की मांग को पूरा करने और कीमतों को कंट्रोल करने के लिए एथेनॉल (Ethanol) की दिशा में काम किया जा रहा है। इस साल सरकार ने भी विभिन्न श्रेणियों के एथेनॉल की कीमतों को 2.75 रुपये तक बढ़ाया है। वहीं 20 प्रतिशत तक सम्मिश्रण का भी लक्ष्य निर्धारित सरकार के द्वारा किया गया है। इसी लक्ष्य को पूरा करने के लिए हरियाणा की करनाल शुगर मिल में जल्द 120 केएलपीडी एथेनॉल प्लांट लगाने की तैयारी में है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, हरियाणा सरकार ने अधिकारियों को शुगर मिलों की आय बढ़ाने पर फोकस करने के लिए कहा है। इसके लिए एथेनॉल प्लांट के अलावा शुगर मिल में गुड़ और शक्कर प्रोसेसिंग यूनिट की भी तैयारी की जा रही है। इससे शुगर मिलों के साथ-साथ कई गांव और किसानों को भी लाभ मिलेगा।

शुगर मिल होगी तैयारी

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, शुगर मिल में 120 केएलपीडी एथेनॉल प्लांट, गुड़-शक्कर प्रोसेसिंग यूनिट का प्रोजेक्ट लगाया जा रहा है। साथ ही, रेनोवेशन के तौर पर शुगर मिलों में यार्ड, शेड, चारदीवारी, सोलर प्लांट, सीसीटीवी कैमरे जैसे कई क्षेत्रों में भी काम किये जाएंगे। इस मामले में शुगर मिल में बोर्ड निदेशकों, किसानों और भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों से भी बातचीत सरकार द्वारा की जा रही है।

गन्ने की पिराई से मिलेगा लाभ

बता दें हरियाणा में मेरठ रोड़ स्थित करनाल शुगर मिल (Karnal Sugar Mill) से सीधा 137 गांव के 2,650 किसान और किसान परिवारों को लाभ मिल रहा है। इस शुगर मिल में 58 लाख क्विंटल गन्ने की पिराई और 10 प्रतिशत गन्ने की रिकवरी का लक्ष्य निर्धारित हुआ है। यहां शुगर मिल का मुनाफा बढ़ाने के लिए तमाम प्रोजेक्ट्स पर काम किए जा रहे हैं। वहीं शुगर मिलों में किसानों और मजदूरों को भी तमाम सुविधायें मिले इसके लिए भी काम किया जा रहा है।

शुगर मिलों को मिलेगा लाभ साथ ही किसान भी होंगे आर्थिक रूप से सशक्त

अधिकारियों की मानें तो सिर्फ चीनी बनाकर शुगर मिलों का मुनाफा नहीं बढ़ेगा। यही वजह है कि अब सरकार और शुगर मिलें दूसरे संसाधनों पर भी काम की दिशा में बढ़ रही है। इन्हीं प्रोजेक्ट्स में शामिल है 120 केएलपीडी वाला एथेनॉल प्लांट, जिससे करनाल शुगर मिल को लाभ मिल रहा है। साथ ही गुड़-शक्कर बनाने से अतिरिक्त आय की भी की जा सकेगी।

Also Read: VED, OF UTTAR PRADESH, PRODUCES PLATES AND PACKAGING MATERIALS FROM SUGARCANE WASTE, WITH AN ANNUAL TURNOVER OF 200 CRORES

You May Also Like


Comments


No Comments to show, be the first one to comment!


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *