×
Videos Agriculture Health Business Education Positive Breaking Sports Ansuni Gatha Advertise with Us Catch The Rainnew More
HOME >> ECONOMY

ECONOMY

IPO: टाटा लाने जा रहा है नया आईपीओ, शेयर हो सकते हैं आपके लिए फायदेमंद!

by Rishita Diwan

Date & Time: Sep 05, 2022 6:00 PM

Read Time: 2 minute



HIGHLIGHTS

  • सितंबर के आखिरी तक मसौदा बाजार नियामक सेबी के पास दाखिल हो सकता है करने की तैयारी
  • कंपनी ने की थी पिछले साल ही आईपीओ लाने की तैयारी
  • टाटा प्ले की मार्केट हिस्सेदारी 33.23 फीसदी के साथ सबसे ज्यादा

IPO: आईपीओ में निवेश करने वालों निवेशकों के लिए एक अच्छी खबर है। टाटा ग्रुप की कंपनी TATA Play आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (IPO) लाने की तैयारी में है। खबरों की मानें तो Tata Sky ने इस वित्त वर्ष की शुरुआत में अपना नाम बदलकर Tata Play कर दिया था। ऐसा माना जा रहा है कि इस महीने के अंत तक कंपनी अपनी आरंभिक सार्वजनिक पेशकश के लिए मसौदा विवरणिका बाजार नियामक सेबी के पास दाखिल करेगी।

खबरों में ये बात है कि Tata Play के आईपीओ का साइज 300-400 मिलियन डॉलर का हो सकता है। गौरतलब है कि कंपनी ने पिछले साल ही आईपीओ लाने की तैयारी कर रही थी। जिसकी चर्चा मार्केट में जोर-शोर से थी लेकिन बाद में इसे किसी कारण से रोक दिया गया, क्योंकि कंपनी ने रीब्रांडिंग की कवायद शुरू कर दी थी। इसके बाद वित्त वर्ष की शुरुआत में रूस और यूक्रेन युद्ध के कारण बाजार में उतार-चढ़ाव का दौर चल रहा था। इसलिए कंपनी ने आईपीओ लाने की योजना को आगे कर दिया। अब बाजार में तेजी लौटने के बाद कंपनी एक बार फिर से आईपीओ लाने की तैयारी में है।

ज्वाइंट वेंचर हुआ शुरू

टाटा स्काई ने 2004 में टाटा संस और नेटवर्क डिजिटल डिस्ट्रीब्यूशन सर्विसेज एफजेड-एलएलसी (NDDS) के बीच 80:20 के ज्वाइंट वेंचर के रूप में ऑपरेशन शुरू किया। NDDAS रूपर्ट मर्डोक की 21 सेंचुरी फॉक्स के स्वामित्व वाली इकाई है। डिज्नी ने 2019 में फॉक्स का एक्विजिशन किया था। डिज्नी के पास टीएस इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड के माध्यम से टाटा स्काई में एक और 9.8 फीसदी हिस्सेदारी है। कंपनी में टाटा संस की 41.49% हिस्सेदारी है। टाटा प्ले की मार्केट हिस्सेदारी 33.23 फीसदी के साथ सबसे ज्यादा है। इसके बाद भारती टेलीमिडिया, डिश टीवी और सन डायरेक्ट टीवी का हिस्सा है। टाटा प्ले ने वित्त वर्ष 2012 में परिचालन से अपने राजस्व में मामूली तेजी दर्ज की है, जो वित्त वर्ष 2011 में 4,682 करोड़ रुपये के राजस्व से 4,741 करोड़ रुपये हुई। हालांकि, लाभ पिछले वित्त वर्ष में 68.75 रुपये के लाभ की तुलना में वित्त वर्ष 22 में 68.60 करोड़ रुपये पर कॉस्टेंट रहा।

Also Read: IPOs can’t be seen as a "surrogate" for financing: said Narayana Murthy, a software icon

You May Also Like


Comments


No Comments to show, be the first one to comment!


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *