×
वीडियो खेती की बात स्वास्थ्य बिज़नेस शिक्षा पॉजिटिव ब्रेकिंग खेल अनसुनी गाथा एडिटोरियल
EN

स्वास्थ्य

MUSIC: तनाव को खत्म करती है संगीत की धुन, दिल को सुकून और हेल्थ के लिए भी अच्छा!

by Rishita Diwan

Read Time: 2 minute



गुनगुनाना हर किसी को पसंद होता है। कोई खुलकर गाता है तो कोई अकेले में, कोई जानकार होता है तो कोई संगीत की बिना समझ वाला, हर किसी को संगीत की धुन अच्छी ही लगती है। जानकारों का कहना है कि संगीत कई शारीरिक समस्याओं को खत्म करता है। शब्दों का साफ़ उच्चारण, खर्राटों से राहत और न जाने कितने ही फ़ायदे हैं जो संगीत को सुनने या गुनगुनाने से मिलते हैं।

उदासीनता को खत्म करता है संगीत

जब कोई खुलकर गाता है तो मन वैसे ही ख़ुश रहता है। समूह में गाते हैं, चाहे वह एक बड़ा समूह हो या फिर छोटा, तो सामूहिक गायन से शरीर में एंडोर्फिन हॉर्मोन रिलीज़ होती है, जिसे ‘फील-गुड’ हॉर्मोन भी कहा जाता है। ये हॉर्मोन सकारात्मक भावनाओं को बढ़ावा देने में हेल्प करते हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली होती है मजबूत

गायन प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता को बढ़ाता है। यह उसे दुरुस्त रखने के साथ ही बीमारियों से लड़ने में भी मदद करता है। संगीत सुनना तनाव के हॉर्मोन को कम कर देता है लेकिन शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत बनाने के लिए खुलकर गाना आवश्यक है। गाना गाने से इम्युनोग्लोबुलिन नामक एंटीबॉडी तैयार होती है, जो शरीर को संक्रमण से बचाने में मदद करती है।

खर्राटों से मिलता है छुटकारा

नियमित गायन सांस लेने की प्रक्रिया को सुधारता है। रिसर्चर कहते हैं कि, खर्राटे लेने वाले व्यक्तियों के दो समूहों पर हुए इस शोध में, एक समूह गाना गाने वाला था और दूसरा कभी-कभी गाने वाला या फिर गाना नहीं गाने वाला था। रिसर्चर ने पाया कि कम गाना गाने वालों ने खर्राटे लिए जबकि जो गाते थे उन्होंने खर्राटे मारे।

याद्दाश्त होती है तेज

अल्ज़ाइमर और डिमेंशिया से ग्रस्त लोग धीरे-धीरे याद्दाश्त की कमी से ग्रसित होते कम होने का अनुभव करते हैं। इन समस्याओं से ग्रस्त लोग गाने के बोल, दूसरे शब्दों की तुलना में अधिक आसानी से याद करने में सक्षम होते हैं। इसीलिए माना जाता है कि जो लोग गाना गाते हैं या संगीत प्रेमी होते हैं उनकी याद्दाश्त अच्छी बनी रहती है।

बोलने की क्षमता में होता है सुधार

गाना गाने के दौरान कई शब्दों को ऊंचा तो कई को धीमा गाया जाता है। साथ ही कई नए शब्द भी सीखने भी मिलते हैं। इस तरह के उच्चारण से ज़बान साफ़ होती है और शब्द भी साफ़ होते हैं। बचपन से गाना गाने वाले बच्चे, कठिन शब्दों को बड़ों की तुलना में अधिक साफ़ बोलते हैं।

फेफड़े स्वस्थ होते हैं

गाने गाते हुए गहरी सांस लेना और छोड़ना आम बात है। ऐसा करना फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए फ़ायदेमंद साबित होता है। इससे फेफड़ों से संबंधित रोगों की आशंका भी कम हो जाती है। गायन से खून में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है, जो सेहत के लिए लाभदायक होती है।

Also Read: How to boost your mental health

आपको यह भी पसंद आ सकता है


Comments


No Comments to show, be the first one to comment!


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *