×
Videos Agriculture Health Business Education Positive Breaking Sports Ansuni Gatha Advertise with Us Catch The Rainnew More
HOME >> POSITIVE BREAKING

POSITIVE BREAKING

Bharat Drone Mahotsav 2022: देश के सबसे बड़े ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन कर मोदी बोले- 2030 तक भारत बनेगा 'ड्रोन हब'

by Rishika Choudhury

Date & Time: May 28, 2022 11:00 AM

Read Time: 2 minute



भारत के सबसे बड़े ड्रोन महोत्सव की शुरुआत दिल्ली के प्रगति मैदान में हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत ड्रोन महोत्सव 2022 का उद्घाटन करते हुए किसान ड्रोन पायलट और ड्रोन महोत्सव के स्टार्ट अप के साथ बातचीत भी की है।

भारत बनेगा 2030 तक ड्रोन हब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन करते हुए कहा कि 2030 तक भारत ड्रोन हब बनेगा। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि वे ड्रोन प्रदर्शनी से प्रभावित हुए हैं । नई टेक्नोलॉजी को देखकर अच्छा लगता है। भारत में यह क्षमता है कि वो ग्लोबल लेवल पर ड्रोन हब बने। ड्रोन को लेकर देश में काफी उत्साह है।
पीएम मोदी ने इस आयोजन के लिए सभी को बधाई दी। पीएम मोदी ने कहा कि ड्रोन टेक्नॉलॉजी को लेकर भारत में जो उत्साह देखने को मिल रहा है, वो अद्भुत है। ये जो ऊर्जा नजर आ रही है, वो भारत में ड्रोन सर्विस और ड्रोन आधारित इंडस्ट्री की लंबी छलांग का प्रतिबिंब है। ड्रोन से किसानों को भी बहुत मदद मिली है जैसे खेतों में उर्वरक छिड़काव सहित अन्य काम किए जा रहे हैं।
मोदी ने आगे कहा कि ड्रोन इंडस्ट्री भारत में रोजगार जेनरेशन के एक उभरते हुए बड़े सेक्टर की संभावनाएं दिखाती है। Minimum government, maximum governance के रास्ते पर चलते हुए, ease of living, ease of doing business को हमने प्राथमिकता बनाया । ये उत्सव सिर्फ एक तकनीक का नहीं है, बल्कि नए भारत की नई गर्व का, नए प्रयोगों के प्रति अभूतपूर्व पाजिटिविटी का भी उत्सव है।

2026 तक 15 हजार करोड़ का होगा ड्रोन कारोबार

केंद्रीय नागरीय उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि हमारा अनुमान है कि 2026 तक ड्रोन का उद्योग 15,000 करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगा। आज 270 ड्रोन के स्टार्टअप्स हैं, यह आने वाले वक्त में और बढ़ेंगे। आने वाले 5 साल में ड्रोन उद्योग में 5 लाख रोज़गार के अवसर भी मिलेंगे।

1600 से अधिक प्रतिनिधि फेस्टिवल में हुए शामिल

इस दो दिवसीय कार्यक्रम में सरकारी अधिकारियों, विदेशी राजनयिकों, सशस्त्र बलों, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, सार्वजनिक उपक्रमों, निजी कंपनियों और ड्रोन स्टार्टअप सहित 1600 से अधिक प्रतिनिधि शामिल हुए हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री ने किसान ड्रोन पायलटों से बातचीत भी की।

Also Read: Drones save cost of land mapping for government by at least 75%

You May Also Like


Comments


No Comments to show, be the first one to comment!


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *