×
Videos Agriculture Health Business Education Positive Breaking Sports Ansuni Gatha Advertise with Us Catch The Rainnew More
HOME >> INSPIRATIONAL

INSPIRATIONAL

INSPIRATION: संगीत में दिलचस्पी ने वीना को पहुंचाया एक अलग मुकाम पर, आज हैं कई लोगों की प्रेरणास्त्रोत

by Shailee Mishra

Date & Time: Apr 25, 2022 8:00 PM

Read Time: 3 minute



वीना मोदानी बचपन में गाना गाती थीं और जमकर डांस करती थीं। उन्हें ये काफी पसंद था। सात बहनों और एक भाई के गरीब परिवार में जन्मी वह अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर सकीं। न ही वह गायन और नृत्य सीख सकती थी। यहां तक कि परिवार भी वीना के इस शौक को पूरा करने के खिलाफ था। वर्षों के संघर्ष के बाद,वीणा खुद को साबित करने में सफल रही। लेकिन आज वीना का संगीत बच्चों और बड़ों के लिए प्रेरणा बन गया है।

कौन है वीना मोदानी?

वीना मोदानी राजस्थान की रहनी वाली हैं जो आज एक मिसाल बन चुकीं है एक गरीब परिवार में जन्मीं और 17 साल की उम्र में शादी हो जाने के कारण वीना अपने गायन और नृत्य के सपने को उस समय पूरा नहीं कर पाई और अब वे राजस्थान की आशा भोंसले के नाम से पहचानी जाती हैं। वे 8 भाषाओं में गाना गाती हैं और अपने मधुर संगीत से वह सबके दिलों पर राज कर रहीं हैं।

राजस्थान की आशा भोंसले

उनके लयबद्ध कदमों ने कोविड -19 लॉकडाउन के निराशाजनक समय में एक चिकित्सा के रूप में काम किया है। इसके लिए उन्होंने कई पुरस्कार जीते हैं। वह आठ भाषाओं में गाती हैं और उनके प्रशंसक उन्हें 'राजस्थान की आशा भोंसले' कहते हैं।

कम उम्र में शादी हो जाने के बाद वह घर परिवार में व्यस्त हो गईं, कुछ सालों के प्रयासों के बाद अपने ससुराल वालों को यह समझाने में सक्षम थी कि वह संगीत और नृत्य के बिना "अधूरी" होगी। अपने पति के समर्थन के साथ, उन्हें आखिरकार बच्चों को नृत्य सिखाने की अनुमति मिल गई। इसके बाद वीना ने एक डांस अकादमी की शुरूआत की।

वीना का सफर

सात साल पहले, उन्होंने एक प्रोफेशनल गायिका के रूप में अपना करियर शुरू किया। जयपुर के ग्रैमी अवार्ड विजेता पंडित विश्व मोहन भट्ट और प्रसिद्ध बांसुरी वादक रोनू मजूमदार वीणा की विशेष प्रतिभा के बारे में बहुत कुछ कहते हैं। भट्ट का कहना है कि, "वीना की आवाज में लता मंगेशकर की मिठास और आशा भोंसले की नशीला गुण है।" "उनकी आवाज का असर इलाहाबाद में नदियों के संगम जैसा है।"

जरूरतमंद बच्चों को देती हैं नि:शुल्क प्रशिक्षण

वह जरूरतमंद बच्चों को नि:शुल्क प्रशिक्षण देती हैं। उन्होंने कहा, 'अगर बच्चों में प्रतिभा और सीखने की लगन हो तो उनकी आर्थिक स्थिति बाधक नहीं होनी चाहिए। मैं बच्चों के कौशल को निखारने के लिए काम करती हूं, ”वह कहती हैं। वर्षों पहले, एक एनजीओ ने वीना से अनुरोध किया कि वे अपने संगठन में रहने और पढ़ने वाले लगभग 60 विशेष बच्चों को संगीत और नृत्य सिखाएं। वीना की शर्त थी कि वो कुछ भी चार्ज नहीं करेंगी। "ये बच्चे गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं 
लेकिन उनकी ऊर्जा का स्तर तब और बढ़ जाता है जब वो नृत्य या संगीत सीखते है और साथ ही तब वो अपने सभी कष्टों को भूल जाते है।

वीणा वृद्धाश्रमों में बुजुर्गों के मनोरंजन के लिए मुफ्त संगीत कार्यक्रम और नृत्य गतिविधियां भी करती हैं। “कई लोग अपनी समस्याओं को दूर करने के लिए संगीत और नृत्य सीखने आते हैं। संगीत में उपचार की बहुत शक्ति होती है। मेरे पास कई कैंसर के मरीज भी आते हैं। संगीत मूड एलिवेटर है। यह आपकी विचार प्रक्रिया को तोड़ देता है। लोग अक्सर भूल जाते हैं कि उन्हें कोई बीमारी है,” वह कहती हैं। कोविड लॉकडाउन के दौरान, वीना ने ऑनलाइन संगीत और नृत्य कक्षाएं शुरू कीं।

Also Read: INSPIRATION: आत्मनिर्भर होती छत्तीसगढ़ की महिलाएं, मीटर रीडिंग और स्पॉट बिलिंग जैसे काम कर बदल रही हैं समाज की धारा!

You May Also Like


Comments


No Comments to show, be the first one to comment!


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *