SeePositive Logo SUBSCRIBE
Follow us: hello@seepositive.in

अनसुनी गाथा

हाथों में जिनके हो जूनून , वो कटते नहीं तलवारों से , सर जो उठ जाते हैं, वो झुकते नहीं ललकारों से।

by admin

2 min Read


कुछ ऐसी ही अनसुनी कहानी रही है रानी कर्णावती की, जो एक महान शासक थी। 

रानी कर्णावती चित्तौड़गढ़ की महारानी थी जिनकी शादी राणा संग्राम सिंह से हुई। रानी कर्णावती दो महान राजा, राणा विक्रमादित्य और राणा उदय सिंह की माता थी और महाराणा प्रताप की दादी थी।


मुग़ल साम्राज्य के बादशाह बाबर ने 1526 में दिल्ली के सिंहासन पर कब्ज़ा कर लिया था।

मेवाड़ के राणा सांगा ने उनके खिलाफ राजपूत शासकों का एक दल का नेतृत्व किया। परंतु अगले ही वर्ष खानुआ की लड़ाई में वे पराजित हुए। युद्ध के दौरान राणा सांगा को काफ़ी गहरे घाव आये थे जिसके वजह से शीघ्र ही उनकी मृत्यु हो गई।

अब विधवा रानी कर्णावती और उनके बेटे राजा राणा विक्रमादित्य और राणा उदय सिंह थे। रानी कर्नावती ने अपने बड़े पुत्र विक्रमजीत के हाथो में राज्य की राजगद्दी सौंप दी।

परंतु रानी कर्णावती को लगा की इतना बड़ा राज्य संभालने के लिए राणा विक्रमजीत की आयु कम थी। इसी दौरान गुजरात के बहादुर शाह द्वारा दूसरी बार मेवाड पर हमला किया जा रहा था रानी कर्णावती के लिए यह बहुत चिंतामय की बात थी क्योंकि पहली बार राणा विक्रमजीत को हार मिली थी।

रानी कर्णावती ने चित्तौड़गढ़ के सम्मान की रक्षा करने के लिए अन्य राजपूत शासकों से मदद मांगी। शासकों ने सहमति व्यक्त की परंतु उनकी एक शर्त थी कि विक्रमजीत और उदय सिंह को अपनी व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए युद्ध के दौरान बुंदी भेज दिया जाए।

रानी कर्णावती ने मुग़ल सम्राट हुमायूं को एक राखी भेजी, और उन्हें एक भाई का दर्जा देते हुए सहायता की मांग की।

रानी अपने दोनों बेटों को बुंदी भेजने के लिए राज़ी हो गयी और उन्होंने अपनी भरोसेमंद दासी पन्ना से कहा कि उनके बेटों के साथ रहना और अच्छी तरह से देखभाल करना। दासी पन्ना ने यह जवाबदेही स्विकार की ।

सम्राट हुमायूं, जो बंगाल के आक्रमण की तैयारी पर था, दया से प्रतिक्रिया व्यक्त की और राणी कर्णावती को सहायता देने का विश्वास दिलाया।

हुमायूं ने रानी की बात स्वीकार कर चित्तौड़ की तरफ चल दिए। लेकिन वह समय पर वहाँ पहुंचने में नाकाम रहे। अपने आगमन से पहले बहादुर शाह चित्तौड़गढ़ में प्रवेश किया।

रानी कर्णावती इस हार को समझने लगीं।  तब उन्होंने और अन्य महान महिलाओं ने खुद को आत्मघाती आग में आत्महत्या कर ली। जबकि सभी पुरुषों ने भगवा कपड़े लगाए और मौत से लड़ने के लिए निकल गए। हुमायूं ने बहादुर शाह को पराजित किया और कर्णावती के पुत्र राणा विक्रमादित्य सिंह को मेवाड़ के शासक के रूप में बहाल कर दिया।


Comments


No Comments to show, be the first one to comment!


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *